बहुत अच्छी जानकारी है कृपया ध्यान से पढ़ें .

ये है देश के दो बड़े महान देशभक्तों की कहानी....
जनता को नहीं पता है कि भगत सिंह के खिलाफ विरुद्ध गवाही देने वाले दो व्यक्ति कौन थे । जब दिल्ली में भगत सिंह पर अंग्रेजों की अदालत में असेंबली में बम फेंकने का मुकद्दमा चला तो...भगत सिंह और उनके साथी बटुकेश्वर दत्त के खिलाफ शोभा सिंह ने गवाही दी और दूसरा गवाह था शादी लाल !
दोनों को वतन से की गई इस गद्दारी का इनाम भी मिला। दोनों को न सिर्फ सर की उपाधि दी गई बल्कि और भी कई दूसरे फायदे मिले। शोभा सिंह को दिल्ली में बेशुमार दौलत और करोड़ों के सरकारी निर्माण कार्यों के ठेके मिले आज कनौट प्लेस में सर शोभा सिंह स्कूल में कतार लगती है बच्चो को प्रवेश नहीं मिलता है जबकि शादी लाल को बागपत के नजदीक अपार संपत्ति मिली। आज भी श्यामली में शादी लाल के वंशजों के पास चीनी मिल और शराब कारखाना है। सर शादीलाल और सर शोभा सिंह, भारतीय जनता कि नजरों मे सदा घृणा के पात्र थे और अब तक हैं
लेकिन शादी लाल को गांव वालों का ऐसा तिरस्कार झेलना पड़ा कि उसके मरने पर किसी भी दुकानदार ने अपनी दुकान से कफन का कपड़ा तक नहीं दिया। शादी लाल के लड़के उसका कफ़न दिल्ली से खरीद कर लाए तब जाकर उसका अंतिम संस्कार हो पाया था।
शोभा सिंह खुशनसीब रहा। उसे और उसके पिता सुजान सिंह (जिसके नाम पर पंजाब में कोट सुजान सिंह गांव और दिल्ली में सुजान सिंह पार्क है) को राजधानी दिल्ली समेत देश के कई हिस्सों में हजारों एकड़ जमीन मिली और खूब पैसा भी। शोभा सिंह के बेटे खुशवंत सिंह ने शौकिया तौर पर पत्रकारिता शुरु कर दी और बड़ी-बड़ी हस्तियों से संबंध बनाना शुरु कर दिया।सर शोभा सिंह के नाम से एक चैरिटबल ट्रस्ट भी बन गया जो अस्पतालों और दूसरी जगहों पर धर्मशालाएं आदि बनवाता तथा मैनेज करता है।
आज दिल्ली के कनॉट प्लेस के पास बाराखंबा रोड पर जिस स्कूल को मॉडर्न स्कूल कहते हैं वह शोभा सिंह की जमीन पर ही है और उसे सर शोभा सिंह स्कूल के नाम से जाना जाता था।

खुशवंत सिंह ने अपने संपर्कों का इस्तेमाल कर अपने पिता को एक देशभक्त दूरद्रष्टा और निर्माता साबित करने की भरसक कोशिश की।
खुशवंत सिंह ने खुद को इतिहासकार भी साबित करने की भी कोशिश की और कई घटनाओं की अपने ढंग से व्याख्या भी की।
खुशवंत सिंह ने भी माना है कि उसका पिता शोभा सिंह 8 अप्रैल 1929 को उस वक्त सेंट्रल असेंबली मे मौजूद था जहां भगत सिंह और उनके साथियों ने धुएं वाला बम फेंका था।
बकौल खुशवंत सिह, बाद में शोभा सिंह ने यह गवाही दी, शोभा सिंह 1978 तक जिंदा रहा और दिल्ली की हर छोटे बड़े आयोजन में वह बाकायदा आमंत्रित अतिथि की हैसियत से जाता था।
हालांकि उसे कई जगह अपमानित भी होना पड़ा लेकिन उसने या उसके परिवार ने कभी इसकी फिक्र नहीं की।
खुशवंत सिंह का ट्रस्ट हर साल सर शोभा सिंह मेमोरियल लेक्चर भी आयोजित करवाता है जिसमे बड़े-बड़े नेता और लेखक अपने विचार रखने आते हैं, बिना शोभा सिंह की असलियत जाने (य़ा फिर जानबूझ कर अनजान बने) उसकी तस्वीर पर फूल माला चढ़ा आते हैं

आज़ादी के दीवानों क विरुद्ध और भी गवाह थे ।

1. शोभा सिंह
2. शादी राम
3. दिवान चन्द फ़ोर्गाट
4. जीवन लाल
5. नवीन जिंदल की बहन के पति का दादा
6. भूपेंद्र सिंह हुड्डा का दादा
दीवान चन्द फोर्गाट DLF कम्पनी का Founder था इसने अपनी पहली कालोनी रोहतक में काटी थीइसकी इकलौती बेटी थी जो कि K.P.Singh को ब्याही और वो मालिक बन गया DLF का ।अब K.P.Singh कीभी इकलौती बेटी है जो कि कांग्रेस के नेता और गुज्जर से मुस्लिम Converted गुलाम नबी आज़ाद के बेटे सज्जाद नबी आज़ाद के साथ ब्याही गई है । अब वह DLF का मालिक बनेगा ।

जीवन लाल मशहूर एटलस साईकल कम्पनी का मालिक था।

more  

View all 7 comments Below 7 comments
Yes! this is our 'National Character'...Stab our own people for money...That's why India remained Slave for Generations...and ruled by Corrupt Politicians till date to remain poor & developing even after 68 years of so-called Independence...Bharat Mata Ki Jai Ho !!! more  
Thanku sir for awareness ... more  
Sir ji:Dhanavad for the useful post. more  
Post a Comment

Related Posts

    • JOURNALISTS AND ACTIVISTS ARE MUCH NEEDED BUT THEY NEED CREDIBILITY TOO

      It is high time that the journalists and activists should take a good look at their own image in the society and search their conscience whether they have always been neutral and unprejudiced.

      By N.S. Venkataraman
      /
    • Government should be committed to population control

      Today, what stands between India and high prosperity index is the huge population, which still continues to increase at alarming level. To control the population growth, Prime Minister M...

      By N.S. Venkataraman
      /
    • CONCEPT OF WORKING FROM HOME - WILL IT STAND THE TEST OF TIME ?

      When the world was attacked by COVID 19 and with no proven drug/vaccine available xfor treating the infected people, social distancing between individuals was advocated as immediate solution to sol...

      By N.S. Venkataraman
      /
    • ARE EVERYONE TIRED OF LOCKDOWN ?

      Now, it appears that both the governments and the public are tired of lockdown. It appears that people have reconciled themselves to live with COVID 19, just as they have been living wi...

      By N.S. Venkataraman
      /
    • DISRESPECT TO CORONA INFECTED DECEASED PERSONS

      It is highly depressing to read news about the local people’s objection to bury / cremate the corona infected deceased persons in their locality. This is happening all over India and par...

      By N.S. Venkataraman
      /
    • COVID 19 - LIFTING LOCKDOWN IN INDIA– A CALCULATED RISK THAT HAS TO BE TAKEN

      A team of management professional, technologists , trader with long experience in their respective field have put their heads together and arrived at suggestions for lifting the lockdown in the f...

      By N.S. Venkataraman
      /
    • MR. MODI SHOULD BAN POLYGAMY TO PROTECT WOMEN’S DIGNITY AND CURB POPULATION GROWTH

      As we celebrate International women’s Day, it is surprising that no one seem to be talking about the practice of polygamy where one man marries several women. This is one of the most uncivil...

      By N.S. Venkataraman
      /
    • DELHI POLICE – SINNED OR SINNED AGAINST ?

      Almost all section of Indian media and most of the critics have blamed the Delhi police for the riots for two days ,when many innocent lives were lost and many were injured and large scale propert...

      By N.S. Venkataraman
      /
    • Someone get this chimpanzee booked

      He is openly challenging Delhi Police and Govt of India. "Trump के जाने तक तो हम शांति से जा रहे। लेकिन उसके बाद हम आपकी भी नही सुनेगे. सड़कें खाली करवाइए तब तक।" "Till Trump...

      By Rajesh Suri
      /
    • Hiow to deal with motivated agitators and terrorists ?

      For the last several days, some members of the Islamic group have been agitating against CAA. Now they are blocking roads in Delhi, Chennai and other places, though the government has assured that ...

      By N.S. Venkataraman
      /
    • Lessons for bjp

      3 lessons for BJP after Delhi: 1) Ideological issues must be supplemented by a solid governance agenda 2) There has to be a vibrant local unit with mohalla presence, & not mer...

      By Rajesh Suri
      /
Share
Enter your email & mobile number and we will send you the instructions

Note - The email can sometime gets delivered to the spam folder, so the instruction will be send to your mobile as well

Please select a Circle that you want people to invite to.
Invite to
(Maximum 500 email ids allowed.)