अपराधियों को जनप्रतिनिधि बनने से रोकिये

Signed 2/3000
Online Signatures: 2
Tainted_MPs_chart_14102022090756.jpg
To
Chief Justice of India
2004 में अपराधियों की संख्या 24% थी जो 2019 में बढ़कर 43% हो गयी। अपराधियों की सख्या बढ़ी तेजी से बढ़ रही है। इसमें संगीन अपराध जैसे डकैती, हत्या, बलात्कार, लूट, फिरौती जैसे मामले भी शामिल है। चौकिये नहीं ये तथ्य और कही के नहीं अपितु लोकतंत्र के सबसे बड़े मंदिर संसद सदस्यों के बारे में है।

हमारे अधिकतर सांसदो, विधायको पर गंभीर आरोपों में कई सालो से केस चल रहे है, फिर भी वो हमारे जन प्रतिनिधि बनकर लोकसभा, राज्यसभा और विधानसभाओ में बैठे है।

Former President Dr Rajendra Prasad held that “If the people who are elected are capable and men of character and integrity, then they would be able to make the best even of a defective constitution. If they are lacking in these, the Constitution cannot help the country”.

खुद उच्चतम न्यायलय के आकंड़ो के हिसाब से इन जनप्रतिनिधियों को सजा होने की दर 6% से कम है। इडुक्की केरल से कांग्रेस सांसद डीन कुरिएकोसे के ऊपर 204 केस होने का हलफनामा है। कानून बनाने का काम इन्ही का है तो कानून बनाया हुआ है की जब 2 साल से ज्यादा की सजा हो तो उस राजनेता को अपने पद से इस्तीफा देना होगा। हमारे न्यायलय इतने व्यस्त , अस्वेदनशील, गैर जवाबदेह है की उनके केस का निपटारा करके सजा ही नहीं सुनाते और ये नेता कितना ही बड़ा गुनाह करके पूरी जिंदगी अपनी राजनीती करके मर जाते है, पर केस का निर्णय नहीं होता। मतलब की अगर आप नेता है तो कितना ही बड़ा अपराध करलो आप का कुछ नहीं होने वाला। ऐसे कितने ही उदहारण हमारे सामने है सिक्खो का कत्ले आम करने वाले HKL भगत आदि इतना बड़ा अपराध करके राजनीती करते मर गए पर कोई सजा नहीं हुई । संसद यह कानून बना नहीं सकती की किसी के खिलाफ केस दायर होते ही उसे दोषी माना जाये और वह अपने सभी पदों से इस्तीफा दे क्योंकि सविंधान कहता है की जब तक साबित नहीं होता तब तक वयक्ति निर्दोष है। अत: यह जुम्मेदारी हमारी कानून वयवस्था की है की जिस भी व्यक्ति पर केस दर्ज होकर अदालत में जाये उसे अदालत जल्दी से निपटारा करे। हमारी अदालतों को चाहिए की किसी भी राजनीतिज्ञ के खिलाफ केस को जिला अदालत से उच्चतम न्यायलय तक एक तय अवधी (मानलो एक वर्ष) में पूरा करे। इसके लिए जरुरत हो तो रोज, साप्ताहिक केस सुने, पुलिस एवं जाँच में जुडी सभी संस्थाओ को सख्ती से पाबंद करे, सहयोग की व्यवस्था करे। अगर ऐसा होता है तो सभी राजनितिक दल इन अपराधियों को टिकट देना बंद कर देंगे और अपराधी हमारे जनप्रतिनिधि नहीं बनेंगे। इसमें अदालतों का एक तर्क होता है की उनके लिए सभी केस बराबर होते है अगर वे इन केस को प्राथमिकता देंगे तो अन्य केस प्रभवित होंगे। पर ये अदालते दोषी सलमान खान एक रात जेल में न रहे इसके लिए रात को 9 बजे खुलती है पर सामान्य निर्दोष व्यक्ति को ये 10 साल जेल में रख लेते है। तब इनका यह तर्क कहा जाता है। वैसे भी अगर हमारी संसद और विधानसभाएं इन अपराधियों से मुक्त होगी तो देश का कई गुना भला होगा।

राजनीतिज्ञों की इस समस्या के सम्पूर्ण समाधान के लिए सरकार को सर्वोच्च न्यायलय के निवेदन के अनुसार संगीन अपराध में लिप्त नेताओ के पूरी जिंदगी चुनाव लड़ने, राजनैतिक पार्टी बनाने एवं राजनैतिक दल में कोई पद लेने पर पूरी जिंदगी पाबंदी लगा देना चाहिए एवं गलत तरीके से कमाई हुई सम्पति जब्त कर लेनी चाहिए |

अपराधियों के जनप्रतिनिधि बनने से रोकने का अभी एक ही रास्ता है की उनके केस का निर्णय हो एवं न्याय व्यवस्था सिर्फ सर्वोच्च न्यायलय के अधीनस्थ काम करती है अत: यह जिम्मेदारी उसकी बनती है । इन अपराधियों को संसद एवं विधानसभा से रोककर हमारी न्याय व्यवस्था देश का बहुत बड़ा भला कर सकती है।

इस पेटिशन के द्वारा हम भारत के राष्ट्रपति एवं भारत के मुख्य न्यायधीश से देश की 130 करोड़ जनता की तरफ से निवेदन करते है की हर राजनीतिज्ञ का केस 1 साल की अंदर हर स्तर पर निपटारा करने की व्यवस्था की जाये।

एक भारतीय

*********************** जय हिन्द *******************

आपके मत में बड़ी ताकत है। इस पेटिशन को साइन करे एवं राष्ट्र सेवा में अपना योगदान दे।
https://chng.it/jDXmb7XpNk

वन्दे मातरम
The Petition was also marked to:
President of India; Prime minister of India; all supreme court judges
 - 

Related Petition

    • 80C contribution should be based on previous year IT returns

      Respected madam. At present, 80C contribution by an individual is fixed irrespective of income earned. In countries like USA, Canada, UK, the equivalent to 80C for retirement savings-based co...

      By Karthik Srinivasan
      /
    • GST Charge

      Why the general people will pay GST at every times. Like paying insurance premium, gas, medicine, any kind of purchase with bill or with out bill (price are included GST). Any types of busines...

      By TARUN BASU
      /
    • Remove requirement of Succession Certificate

      The current rules stipulate that in PPF/ Savings account maintained by Post Office, in case of demise of the account holder without nomination and a balance of more than 5 lakh, the legal heir need...

      By Sumit Viren
      /
    • Change in Motor vehicle act - Onus on Driver - Horns removal from all vehicles

      Infants. Old and sick people need to sleep. Also infants are with parents on streets and also have old people on street. Also working class needs to sleep after rest. The...

      By Naveen Gupta
      /
    • Infrastructure before or along superstructure - schooling

      Infrastructure of schools, so vast, built on prime land has been mostly lying idle since about last 17 months ever since last year's the lockdown. Note the consequences. Teaching and learning entir...

      By Ashish Rai
      /
    • AFFORDABLE MEDICAL TREATMENT FOR ALL

      Affordable medical treatment for all Indian citizens is necessary requirement. I propose that medical treatment should be on PPP model to make it efficient yet affordable. Request sign my petition.

      By VIRENDRA MANGLIK
      /
    • Healthy Bharat

      To ensure that the pandemic ends, any activity where more than 50 people have to gather should be banned. Be it festivals, election, celebrations etc. No one should be allowed to call f...

      By Vaidy S
      /
    • Refund of Fixed Deposit placed with Ansal Properties

      Fixed Deposit placed with Ansal Properties have long ago matured yet they have not refunded any of it since 2015. Ansal, as per NCLT’s order paid interest till March 2019 but suddenly stopp...

      By Sudipta Maitra
      /
    • Open Vaccination for young people who are mobile & potential super spreaders

      Covid Mortality and Active cases are on rise . We have a huge young working class , which can not be catergorised as front line workers but are otherwise highly mobile . They are the bread earners ...

      By Om Prakash Mishra
      /
    • Indian politics - Opposition role

      Taking a reference on Indian Politics and the role played by opposition parties, it is unfortunate to comment that there are no constructive opposition in our parliament. Anything and everything, ...

      By Sasikanth S
      /
Share
Enter your email and mobile number and we will send you the instructions

Note - The email can sometime gets delivered to the spam folder, so the instruction will be send to your mobile as well

All My Circles
Invite to
(Maximum 500 email ids allowed.)